फरीदाबाद के सभी तीनों जोन में साइबर थाना स्थापित, साइबर अपराध से पीड़ित व्यक्ति अपनी जोन के थाना में दे सकेंगे शिकायत : पुलिस आयुक्त

  • साईबर ठगों पर शिकंजा कसने एवं साइबर अपराधों की जांच में तेजी लाने के लिए सेन्ट्रल, एनआईटी तथा बल्लभगढ़ जोन में साईबर थाना का गठन किया गया है।
  • 3 साईबर थाना एवं 4 साईबर सेल एवं सभी थानों में साइबर हेल्प डेस्क की मदद से साईबर फ्रॉड के मामलों में पुलिस द्वारा त्वरित कार्रवाई करके साईबर अपराधियों पर कसा जाएगा शिकंजा।

फरीदाबाद : पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा द्वारा साईबर अपराधों के विरूद्ध दर्ज मामलों में कार्रवाई को गति देने के लिए अब फरीदाबाद पुलिस के तीनों जोन सेन्ट्रल, एनआईटी तथा वल्ल्भगढ़ में अलग-अलग साईबर थाना की इकाईयाँ स्थापित की गई है।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि फरीदाबाद में साइबर अपराध को देखते हुए पुलिस कमिश्नर श्री विकास कुमार अरोडा के आदेश पर फरीदाबाद के प्रत्येक जोन में साइबर थाना स्थापित किया गया है। जिसमें गोल्ड की भिंड मार्केट में स्थित साइबर थाने को एनआईटी का थाना बनाया गया है जिसमें थाना प्रबंधक इंस्पेक्टर बसंत को लगाया गया है। सेंट्रल जोन में साइबर थाने को थाना सेक्टर 17 में खोला गया है, जिसमें थाना प्रबंधक इंस्पेक्टर सतीश कुमार को लगाया गया है तथा बल्लभगढ़ जॉन में साइबर थाना को पंचायत भवन में खोला गया है जिसमें थाना प्रबंधक इंस्पेक्टर नवीन कुमार को लगाया गया है।

आधुनिक युग में डिजिटलाईजेशन के साथ-साथ साईबर अपराधों की संख्या में भी बढ़ोत्तरी हो रही है। साईबर अपराध के इन मामलों में त्वरित कार्रवाई करने के लिए पुलिस आयुक्त विकास अरोड़ा के निर्देशानुसार फरीदाबाद के प्रत्येक पुलिस जोन में एक-एक साईबर थाना गठित किया गया है।

इससे पहले साईबर मामलों की निगरानी के लिए फरीदाबाद में एक साईबर थाना तथा एक साईबर सेल पहले से कार्यरत था। अब तीन नए साईबर सेल बनने के साथ साईबर अपराधों के विरूद्ध कार्रवाई करने वाली इकाईयों की संख्या बढ़कर पाँच हो गई।

एक लाख रूपये तक साईबर फ्रॉड के मामले में पीड़ित व्यक्ति स्थानीय थाना में शिकायत दर्ज करा सकता है। इसके लिए फरीदाबाद के सभी थानों में साईबर हेल्प डेस्क काम कर रहा है। जिससे साईबर अपराधों के पीड़ितों को जल्दी पुलिस सहायता मिलेगी वहीं, पुलिस भी साईबर अपराधों के विरूद्ध त्वरित रूप से कार्रवाई कर सकेगी।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!