छात्रों व आमजन को साइबर अपराधों के बारे में जागरूक करके निकाली साइबर जागरूकता रैली

फरीदाबाद : पुलिस आयुक्त विकास कुमार अरोड़ा के दिशा निर्देश व साइबर राहगीरी कार्यक्रम के अंतर्गत एनआईटी, सेंट्रल व बल्लबगढ़ जॉन की पुलिस टीमों ने स्कूल या कॉलेज में छात्रों को साइबर अपराध से संबंधित जानकारियां देकर जागरूक किया तथा इसके पश्चात पुलिस टीम ने छात्रों के साथ मिलकर साइबर जागरूकता रैली निकाली।

पुलिस प्रवक्ता सूबे सिंह ने बताया कि हर महीने के पहले बुधवार को पूरे हरियाणा में साइबर राहगीरी कार्यक्रम का आयोजन किया जाता है जिसके अंतर्गत पुलिस द्वारा आमजन को साइबर अपराध के बारे में जानकारी देकर इससे बचाव के बारे में जागरूक किया जाता है। इसी के तहत आज एनआईटी, सेंट्रल और बल्लभगढ़ जॉन में फरीदाबाद पुलिस ने स्कूल कॉलेज के छात्रों को साइबर अपराध के बारे में जागरूक किया तथा इसके बाद पुलिस ने छात्रों के साथ मिलकर साइबर जागरूकता रैली निकाली। पुलिस ने दोनों जोन में 2000 से अधिक छात्रों के साथ-साथ आमजन को भी साइबर अपराध के बारे में जागरूक किया। एनआईटी जोन में एसजीएम नगर एरिया में स्थित डीएवी सैंटनरी कॉलेज में जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया जिसमें एसीपी एनआईटी विष्णु प्रसाद, साइबर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर बसंत, एसजीएम नगर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर संदीप के साथ थाना धौज, मुजेसर, एनआईटी, महिला थाना एनआईटी प्रभारी व जॉन के सभी चौकी प्रभारी अपनी टीम के साथ मौजूद रहे। स्पेक्टर बसंत व उनकी टीम ने छात्रों को साइबर अपराध के बारे में जागरूक करते हुए बताया कि आजकल साइबर अपराधियों ने ठगी के नए-नए रास्ते खोज लिए हैं जिसके तहत वह आमजन के बैंक खातों से उनकी खून पसीने की कमाई चुटकियों में उड़ा लेते हैं इसके लिए वह अलग-अलग माध्यमों का उपयोग करते हैं। उन्होंने बताया कि साइबर अपराधी किसी भी प्रकार से आपका बैंक अकाउंट, एटीएम कार्ड नंबर, क्रेडिट कार्ड नंबर, सीवीवी या मोबाइल ओटीपी पूछने का प्रयास करेंगे परंतु आप उनके साथ अपने बैंक अकाउंट क्रेडिट या डेबिट कार्ड से संबंधित किसी भी प्रकार की जानकारी साझा करें। उन्होंने बताया कि जागरूक व्यक्ति साइबर अपराधियों को आसानी से पहचान सकता है और उनके झांसे में नहीं आता इसलिए आवश्यक है कि साइबर अपराध के प्रति जागरूक बने और अपने साथियों को भी इसकी जानकारी दें ताकि वह भी साइबर अपराध का शिकार होने से बच सकें। जागरूकता कार्यक्रम के पश्चात पुलिस टीम द्वारा कॉलेज से ईएसआईसी हॉस्पिटल और वहां से वापस कॉलेज तक साइबर जागरूकता रैली निकाली गई जिसमें आमजन को भी साइबर अपराधों के बारे में जागरूक करके इससे बचाव के तरीकों के बारे में बताया गया।

साइबर थाना सेंट्रल की टीम ने ओल्ड मेट्रो स्टेशन व सेक्टर 16 ओल्ड चौक पर आमजन को साइबर अपराधों के बारे में जानकारी दी जिसमें उन्होंने बताया कि आजकल वीडियो कॉल के माध्यम से भी बहुत से फ्रॉड हो रहे हैं जिसमें कोई महिला आपको वीडियो कॉल करके आपके साथ अश्लील बातें करती हैं और आपकी वीडियो रिकॉर्ड करके आपको ब्लैकमेल किया जाता है और इसकी एवज में आपसे पैसों की मांग की जाती है। उन्होंने बताया कि इस प्रकार के साइबर अपराधों से बचने के लिए आपको जागरूक होने की आवश्यकता है और यदि कोई भी महिला आपके साथ अश्लील बातें करती है तो समझ जाइए कि वह आपको साइबर अपराध का शिकार बनाना चाहती है। इसलिए इस प्रकार के साइबर अपराधों से खुद भी बचें और अपने साथियों का भी इससे बचाव करें।

साइबर थाना बल्लभगढ़ की टीम ने भी वूमेन पॉलिटेक्निक कॉलेज बल्लभगढ़, सरस्वती स्कूल तिगांव व सेंट एंथोनी स्कूल में छात्रों को साइबर अपराध के बारे में जानकारी दी। जागरूकता कार्यक्रम के साथ-साथ बल्लभगढ़ जॉन में पुलिस ने सेक्टर 7, 8 और 9 में आमजन को साइबर अपराधों के बारे में जागरूक करते हुए छात्रों के साथ मिलकर जागरूकता रैली का आयोजन किया। छात्रों में आमजन को साइबर अपराध हेल्पलाइन 1930 के बारे में जानकारी दी गई और बताया गया कि किसी भी प्रकार का साइबर फ्रॉड होने पर वह तुरंत इस नंबर पर संपर्क करें जिससे कि साइबर अपराधियों के खातों में गई राशि को तुरंत फ्रीज करवाकर वापिस पीड़ित के खाते में डलवाया जा सके। इसके साथ ही आमजन को साइबर अपराधों के प्रति जागरूक रहने तथा अपने साथियों को भी इसके बारे में अधिक से अधिक जानकारी देने के लिए प्रोत्साहित किया गया।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!