आगामी विधानसभा चुनाव में अहम भूमिका निभाएगा वैश्य समाज : अशोक बुवानीवाला

फ़रीदाबाद (मनीष शर्मा) : अग्रवाल वैश्य समाज के प्रदेश अध्यक्ष अशोक बुवानीवाला ने सभी राजनीतिक दलों से हाल ही में होने वाले लोकसभा चुनाव में हरियाणा से एक लोकसभा सीट वैश्य समाज के व्यक्ति को देने की मांग की है। वह आज यहां साई धाम में समाज के लोगों की बैठक लेने आए हुए थे और पत्रकारों से बातचीत कर रहे थे। इस अवसर पर प्रदेश संगठन मंत्री केदारनाथ अग्रवाल, युवा इकाई के प्रदेश अध्यक्ष रवि गर्ग, राजेश अग्रवाल, रमेश अग्रवाल, यशपाल आर्य, रीना अग्रवाल, डॉ. निधि अग्रवाल, डॉ अजय गोयल, उमाशकंर गर्ग, मोती लाल गुप्ता, उत्कर्ष गर्ग, पंकज सिगला, राजन गुप्ता, योगेश सिगला, कविता सिंगला, संजय सिंगला एडवोकेट कुसुम अग्रवाल , जितेंद्र सिंगला, प्रदीप गुप्ता, ललित गोयल, नरेंद्र जैन, शिवचरण गर्ग, भगवत स्वरूप गोयल, अतुल सिंगला, सामलिया गुप्ता, शीतल जैन, विजय मंगला, हर्षित जैन आदि वैश्य जन उपस्थित रहे।

उन्होंने कहा कि राज्यसभा की खाली हो रही सीट पर भी वैश्य समाज के लोगों का हक बनता है और उन्हें यह हक मिलना ही चाहिए इस बात को लेकर जल्दी ही समाज का एक शिष्टमंडल भाजपा के नेताओं से मिलेगा और मांग करेगा की राज्यसभा की खाली हो रही सीट वैश्य समाज के व्यक्ति से भरी जाए।

अशोक बुवानीवाला ने कहा कि हरियाणा में होने वाले विधानसभा चुनाव में समाज 15 सीटों की मांग कर रहा है जिसमें पंचकूला और बल्लभगढ़ सबसे पहली सीटें हैं। जहां समाज के लोगों की आबादी सबसे ज्यादा है। साथ ही अंबाला, करनाल, थानेसर, जींद, हिसार, सिरसा, भिवानी, कैथल, पानीपत, सोनीपत, पलवल, फरीदाबाद, गुड़गांव और रोहतक सीट पर अग्रवाल समाज के लोग काफी मजबूत हैं। इसके अलावा जींद जिले की नरवाना सीट ऐसी है जहां अग्रवाल समाज के बिना जीत हासिल करना संभव नहीं है लेकिन यह सीट अनुसूचित जाति के लोगों के लिए आरक्षित है।

उन्होंने कहा कि आज देश में सबसे ज्यादा टैक्स वैश्य समाज के लोग भर रहे हैं। समाज के लोगों के पैसे से देश चल रहा है लेकिन राजनीतिक दलों ने इस समाज के लोगों को लंच और मंच की व्यवस्था करने की जिम्मेदारी देकर अपने कर्तव्य की इति श्री कर ली है और राजनीति में उन्हें उनकी हिस्सेदारी नहीं दी जाती।

उन्होंने कहा कि देश को आजाद करने में वैश्य समाज के लोगों की अहम भूमिका थी महात्मा गांधी से लेकर लाला लाजपत राय और यमुनालाल बजाज समेत आजादी की लड़ाई लड़ने वालों में 29% हिस्सा वैश्य समाज का था प्रदेश के विकास में बनारसी दास गुप्ता समेत हजारों नेताओं ने अपनी अहम भूमिका निभाई लेकिन जब बात लोकसभा और राज्यसभा की आती है तो अग्रवाल समाज के लोगों को दरकिनार किया जा रहा है। अब समाज जागृत हो चुका है और 10 मार्च को अंबाला में समाज में राजनीतिक चेतना को जागृत करने के उद्देश्य से स्वाभिमान सम्मेलन आयोजित किया जा रहा है जिसमें समाज के लोग समाज के हित की बात करेंगे। उन्होंने फ़रीदाबाद क्षेत्र के लोगों को अंबाला में होने वाले स्वाभिमान सम्मेलन में भाग लेने का न्योता भी दिया।

उन्होंने कहा कि समाज के लोगों में राजनीति में अपनी भागीदारी को लेकर काफी जागरूकता आई है। यही कारण है कि पिछले निगमों, नगर परिषदों व नगर पालिकाओं के चुनावों में पूरे प्रदेश में अग्रवाल समाज के काफी संख्या में लोग विजयी हुए हैं और चेयरमैन बने हैं। उन्होंने कहा कि उनके संगठन का प्रदेश के सभी ब्लॉकों में गठन किया जा चुका है।

उन्होंने कहा कि वो भाजपा के अतिरिक्त कांग्रेस व आप पार्टी के अध्यक्षों से भी मिलकर उनसे भी समाज के ज्यादा से ज्यादा लोगों चुनावों में भागीदारी होने के बारे में बात करेंगे।

Related Articles

Back to top button
error: Content is protected !!